महागुरु

असाधारण उपचारक

Quote
मानव जाति की सहायता और सेवा के लिए बना एक अविनाशी के साथ बंधन।
अब भी जारी है सहयोग
दूर करने तन की, मन की पीड़ा

Renuka, Himachal Pradesh

हिमाचल प्रदेश के सिमौर जिले के एक छोटे से शहर रेणुका को परशुराम जी के आध्यात्मिक क्षेत्र का हिस्सा माना जाता है, जो देवी रेणुका और सप्तऋषि जमदग्नि के अमर पुत्र हैं।

1980 में यहीं पर गुरुदेव ने स्थानीय राजनीतिज्ञ श्री चंद्रमणि वशिष्ठ के प्लॉट पर शिविर लगाया।

व्यवस्थित होने के बाद, गुरुदेव ने अपने साथ दौरे पर आये बिट्टू जी को कैम्प के पास बने शिवजी के एक पुराने मंदिर की साफ-सफाई और रंगाई-पुताई करने को कहा। एक या दो सप्ताह बाद, वशिष्ठ जी, जो मंदिर में प्रार्थना करने पहुंचे थे, ने गुरुदेव से मिलने की इच्छा व्यक्त की। चूंकि गुरुदेव उस समय दिल्ली में थे, उन्होंने बिट्टू जी से पूछा कि क्या गुरुदेव चश्मा पहनते हैं। यह बताने पर कि वह नहीं पहनते, वशिष्ठ जी के चेहरे पर असमंजस के भाव थे।

कुछ दिनों बाद गुरुदेव रेणुका लौटे, तो वशिष्ठ जी ने उनसे भी वही प्रश्न किया। गुरुदेव ने हँसते हुए कहा, “मैं जवान हूं। मुझे अभी तक चश्मे की आवश्यकता नहीं है।”

वशिष्ठ जी को एक कप चाय देने के बाद, गुरुदेव ने उन्हें अपनी हथेली पर ओम दिखाया। चमकदार प्रतीक को देखकर, वशिष्ठ जी ने गुरुदेव के चरणों में प्रणाम किया। उन्होंने स्वीकार किया कि ध्यान के दौरान, वे एक के बाद एक कई देवताओं की छवियों को देखते हैं। ध्यान का यह स्लाइड शो हमेशा पैंट और शर्ट पहने एक चश्मे वाले व्यक्ति की छवि के साथ समाप्त होता है, जो दिखने में बिल्कुल आप जैसा है। यह सुनकर गुरुदेव ने मुस्कुराते हुए कहा, “बेटा, मैं 1970 में यहां आने वाला था, लेकिन 1980 में आया हूं। तुम 10 साल से मेरी प्रतीक्षा कर रहे हो!”

Gurudev blesses a woman at Renuka इसके तुरंत बाद, गुरुदेव ने रेणुका में सेवा शुरू करने का फैसला किया। उन्होंने कुछ शिष्यों को रेणुका आने का निर्देश दिया। इसके साथ ही उन्होंने एक मौखिक निर्देश भी दिया कि उन्हें गुरुदेव की पहचान गुप्त रखनी होगी और सेवा का चेहरा बनना होगा।

चूंकि उस समय रेणुका की आबादी बहुत कम थी, इसलिए शिष्यों को उम्मीद नहीं थी कि ज्यादा लोग आएंगे। हालाँकि, जैसे-जैसे घंटे बीतते गए, आस-पास के इलाकों से अनगिनत लोग उस सुदूर स्थान पर आते गए।

उस दिन जब सेवा समाप्त हुई, तो गुरुदेव ने उपस्थित शिष्यों और कुछ अन्य लोगों को अगले गुरुवार रेणुका वापस आने को कहा। उन्होंने उन्हें सूचित किया कि उनकी आवाज पहाड़ों से बहुत आगे तक चली गई है और उन्हें उम्मीद है कि बहुत लोग आएंगे। उन्होंने शिष्यों को सेवा के निर्दिष्ट दिन से एक रात पहले पहुंचने की भी सलाह दी।

दस या ग्यारह शिष्यों की टीम बुधवार रात जब कैंपसाइट पहुंची तो उनके आगमन की प्रतीक्षा में लगभग 2 किलोमीटर लंबी कतार लगी हुई थी। गुरुदेव ने तुरंत उन्हें लोगों की सेवा करने का निर्देश दिया। रात को शुरू हुआ यह सिलसिला अगले दिन भी जारी रहा। रेणुका में मौजूद एक शिष्य बताते हैं कि 17 घंटे तक लगातार सेवा करने के बाद वह लोगों को ठीक करने के लिए हाथ नहीं उठा पा रहे थे। शिष्य की शारीरिक परेशानी को भांपते हुए, गुरुदेव ने उसे पीने के लिए एक गिलास जल दिया, जिससे उसमें पुनः शक्ति का संचार हो गया।

सेवा के तीन दिनों के दौरान, दूर-दूर से लोग रेणुका आए। सेवा स्थल पर कुछ लोग पैदल पहुंचे, जबकि कुछ निजी वाहनों में पहुंचे। हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और राजस्थान राज्यों की बसें हर कुछ घंटों के बाद कैंपसाइट के पास लोगों को उतार देती। वास्तव में, हरियाणा और पंजाब रोडवेज ने अप्रत्याशित मांग को पूरा करने के लिए कुछ बसों का रुख रेणुका की ओर कर दिया था।

उन तीन दिनों की सेवा के दौरान रेणुका आने वाले कई लोगों में एक युवा लड़की भी थी, जो खड़ी नहीं हो सकती थी। उसके माता-पिता, जो हिमाचल के एक दूरदराज के गांव में रहते थे, पैरों से चलने में असमर्थ बेटी को अपनी पीठ पर लादकर रेणुका पहुंचे थे। जैसे ही वे गुरुदेव के शिष्य, सीता राम ताखी जी के पास पहुंचे, जो उस कतार में शामिल लोगों का इलाज कर रहे थे, जिसमें वो खड़े थे, उन्होंने उनसे अपनी बच्ची को ठीक करने का अनुरोध किया।

सीता राम ताखी जी ने गुरुदेव से मार्गदर्शन मांगा कि क्या किया जाना चाहिए। गुरुदेव ने उसे लड़की के पैर की उंगलियों पर खड़े होने के लिए कहा और एक अन्य शिष्य आर.पी. शर्मा जी को निर्देश दिया कि लड़की का हाथ पकड़ कर उसे जबरदस्ती उठाएं। उन्होंने गुरुदेव के निर्देश का पालन किया। लड़की खड़ी हुई और अपने जीवन में पहली बार छोटे-छोटे कदमों से चलना शुरू किया, जिसे देखकर हर कोई अवाक रह गया। उसके माता-पिता ने सुबकते हुए कृतज्ञता के साथ सीता राम ताखी जी और आर.पी. शर्मा जी को धन्यवाद देते हुए कहा, “आप का भला हो!”

रेणुका में घटित इन चमत्कारों की चर्चा फैलते ही, हिमाचल सरकार ने अपने कुछ अधिकारियों को वहां यह देखने का लिए भेजा कि आखिर वहां हो क्या रहा है। वे पास की ही एक प्रयोगशाला में जल का नमूना जांचने के लिए ले गए, पर जल एकदम शुद्ध था। द ट्रिब्यून जैसे समाचार पत्रों के संपादकों ने अपने पत्रकारों को शहर में होने वाली चमत्कारिक घटनाओं को कवर करने के लिए भेजा, जिसके बारे में पहले शायद कभी किसी ने सुना तक नहीं था।

रेणुका का शिविर न केवल गुरुदेव की अकल्पनीय आध्यात्मिक शक्तियों का प्रदर्शन था, बल्कि एक ताकीद भी थी कि सेवा के लिए सुखों को त्यागने की जरूरत होती है। सेवा स्थल पर मौजूद शिष्यों ने निःस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा की।

गुरुदेव के आध्यात्मिक दर्शन की आधारशिला,
निस्वार्थ सेवा थी, है और रहेगी।

कहा जाता है कि गुरुदेव ने रेणुका में सेवा शुरू करने से पहले परशुराम जी के साथ आध्यात्मिक बैठकें की थीं। उन्होंने उनके साथ एक मैत्री संधि की, जिसके तहत 1980 में स्थान की स्थापना की गई, और उसकी बागडोर श्री चंद्रमणि वशिष्ठ को सौंप दी गई, जो परशुराम जी के भी भक्त थे। अपनी मृत्यु से पहले, वशिष्ठ जी ने एक शिष्य दिनेश जी को सेवा का कार्य आगे बढ़ाने के लिए नियुक्त किया था।

माना जाता है कि, परशुराम जी आज भी स्थान की गतिविधियों पर नजर रखने वहां आते हैं। कई लोग दावा करते हैं कि मंदिर में शिवलिंग पर एक ओम जैसा दिखता है, जबकि कुछ अन्य लोगों ने ध्यान मुद्रा में एक ऋषि की आकृति देखी है।

गुरुदेव ने रेणुका और कथोग जैसे कई स्थानों पर शिविर स्थापित किए, जहां उन्होंने उन देवताओं के साथ गठबंधन किए, जो वहां प्रभुत्व रखते थे। परशुराम जी, देवी रेणुका जी और हिमाचल की देवियों के अलावा, गुरुदेव ने सेवा प्रदान करने के लिए कई अन्य संतों के साथ आध्यात्मिक गठबंधन किए। इनमें ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती, श्री मारकंडेश्वर, बाबा बालक नाथ, गणपति, सिख गुरु – गुरु नानक देव, गुरु गोबिंद सिंह और गुरु अंगद देव, हनुमान, अश्विन (देवताओं के चिकित्सक), दत्तात्रेय, शिर्डी के साईं बाबा, इंद्र और संभवतः कई अन्य देवता शामिल हैं।

एक मिनट के लिए सोचकर देखिए – परशुराम जी जैसे आध्यात्मिक महासितारे को सेवा के लिए स्थान की स्थापना में सहयोग देना उचित लगा, और उन्होंने इसको चलाने में भी अपना योगदान दिया। अगर सेवा उनके जैसे अमर, महान आध्यात्मिक व्यक्ति के लिए प्रोत्साहन के रूप में कार्य कर सकती है, तो शायद सभी को निस्वार्थ सेवा के विचार और अभ्यास पर अधिक ध्यान देना चाहिए।