महागुरु

जड़ पकड़ता आध्यात्मिक वृक्ष

Quote
सैकड़ों संतों को देकर शक्ति का वरदान।
उनके घर बना दिए मंदिर समान।
उनके ज्ञान की जड़ें फैलीं हर गांव, हर शहर
जहां लेकर उनका नाम, लोग करते सेवा हर पहर।

जैसे-जैसे गुरुदेव का आध्यात्मिक परिवार बढ़ने लगा, वह अपने शिष्यों के घरों में, सहायता और उपचार के लिए स्थान स्थापित करने की एक नई अवधारणा के साथ आए।

1973 में, गुरुदेव ने दिल्ली के शादीपुर इलाके में मल्होत्रा ​​जी के निवास पर सेवा शुरू की। एक साल बाद, सेवा को गुड़गांव के शिवपुरी इलाके में गुरुदेव के घर में स्थानांतरित कर दिया गया। माता जी ने इस कदम के पीछे की दिलचस्प घटना मेरे साथ साझा की थी। उस वर्ष, रोहतक, हरियाणा की दो महिलाएं, गुरुदेव के शिवपुरी निवास पर उनका नाम पूछते हुए पहुंची। उन्होंने गुरुदेव को सूचित किया कि वे गुरुवार को चमत्कार करने वाले व्यक्ति से मिलने आई हैं। गुरुदेव ने जवाब दिया कि वही वह व्यक्ति हैं, जिसे वे मिलना चाहती हैं लेकिन वह कोई चमत्कार नहीं करते। महिलाएं चली गईं और कुछ दिनों बाद, एक बार फिर अपनी मदद के अनुरोध के साथ वापस आईं। इस बार, गुरुदेव ने चालीस दिन बाद आने वाले पहले गुरुवार को स्थान पर आने के लिए कहा।

चालीस दिनों के बाद जब वे वापस आईं, तो उन महिलाओं में से एक ने गुरुदेव से कहा कि उनके गुरु ने उन्हें जो शाप दिया है, उससे मुक्त होने में वो गुरुदेव की मदद चाहती हैं। उसने बताया कि जब वह चार महीने की गर्भवती थीं, उसके गुरु उनके घर आए। उनके पति का यह मानना था कि गुरु की कृपा से उनकी पत्नी गर्भवती हैं, उन्होंने अपनी पत्नी से अपने गुरु का आभार व्यक्त करने के लिए कहा। जब उसने गुरु से पूछा कि वह उनके लिए क्या कर सकती है, तो उसके गुरु ने जवाब दिया कि चूंकि उनकी कोई सांसारिक इच्छाएं नहीं हैं, इसलिए वह उन्हें उनके अगले पड़ाव के लिए बस का किराया दे सकती हैं। किन्हीं अंजान कारणों से, उस महिला ने पैसे नहीं दिए। क्रोधित गुरु ने उसे शाप दिया, “तुम हमेशा वैसी ही रहोगी जैसी तुम हो!”

कुछ ही समय बाद उसका गर्भपात हो गया।

अभिशाप बहुत प्रभावी साबित हुआ। हर साल, महिला गर्भवती होती, लेकिन चौथे महीने में उसका गर्भपात हो जाता था। जिस साल वह गुरुदेव के पास आई, वह फिर से गर्भवती थी, वह उनका संरक्षण चाहती थी ताकि अजन्मा शिशु बच जाए। जब वह अपनी कहानी सुना रही थी, उसी समय महिला के गुरु की आत्मा (भावना) ने स्थान में प्रवेश किया और उसका एक हिस्सा आग से धधक उठा। गुरुदेव द्वारा आग की लपटों को बुझाने के बाद, महिला के गुरु की आत्मा ने उन्हें शाप को न तोड़ने के लिए कहा। गुरुदेव ने महिला के गुरु को सूचित किया कि वह अपनी इच्छा से स्थान पर आई है, तो वह उसे मना नहीं कर सकते।

महिला के गुरु की आत्मा ने गुरुदेव से कहा कि वह उस महिला को उनके आश्रम में जाकर क्षमा मांगने के लिए कहें। गुरुदेव ने यह संदेश उसे दे दिया, लेकिन साथ ही सावधान भी किया कि जब वह अपने किये की माफी मांगने के लिए वहां जाए तो आश्रम में किसी से भी कुछ भी स्वीकार न करे।

जब महिला अपने गुरु के आश्रम में गई, तो उसने गुरुदेव के निर्देश की अवहेलना करते हुए वहां उसे दिए गए तावीज (लॉकेट) को पहन लिया। जल्द ही उसके गर्भ में पल रहे बच्चे की मृत्यु हो गई।

सिद्ध गुरु के वचन
अमूल्य होते हैं!

शिवपुरी में जब सेवा शुरू हुई, तो लोग अपनी परेशानियों से राहत पाने के लिए सप्ताह के सभी दिनों में आते थे। जब भीड़ बढ़ी, तो गुरुदेव ने फैसला किया कि हर महीने की अमावस्या के बाद का पहला गुरुवार, पूरी तरह से सेवा के लिए समर्पित होगा। इस दिन को बड़ा गुरुवार के नाम से जाना जाएगा। बड़ा गुरुवार पर, दुनिया भर में कई स्थानों में एक साथ सेवा की जाती है। बहुत स्थानों ने उन लोगों की जरूरतों के हिसाब से सेवा का दिन निर्धारित किया है। कुछ स्थानों में शनिवार को सेवा की जाती है, जबकि कुछ अन्य में, रविवार को।

स्थानों के बढ़ने के साथ ही गुरुदेव के आध्यात्मिक उपक्रम शहरों, कस्बों, देश और दुनिया के कई स्थानों में जड़ें जमाने लगे। इसने सेवा के लिए किसी अतिरिक्त आधारभूत ढांचे पर होने वाले खर्च की जरूरत को भी समाप्त कर दिया

गुरुदेव का मानना ​​था कि पुरस्कार, दान या मान्यता की इच्छा के बिना की गई सेवा, आध्यात्मिक विकास की कुंजी है। गुरुदेव और उनके शिष्यों द्वारा स्थापित अधिकांश स्थानों में रोगियों से धन या कोई अन्य चीज ग्रहण करना सख्त मना है।

गुरुदेव ने अपने कुछ शिष्यों को गुरु के रूप में नियुक्त करके और उन्हें अपनी शक्तियां देकर अपने आध्यात्मिक उपक्रम का विस्तार करना शुरू किया। कई अन्य लोग उनके शिष्यों के शिष्य बन गए। उन्होंने एक बहुस्तरीय आध्यात्मिक संरचना तैयार की, लेकिन कभी भी सटीक संबंध का खुलासा नहीं किया।

वह अपने परिश्रम, अभ्यास, बुड्डे बाबा के मार्गदर्शन और अपने आध्यात्मिक ज्ञान से अगले गण की खोज करके एक गुरु से महागुरु बन गए। आखिरकार, एक व्यक्ति ने अनेक व्यक्तियों को खोजकर एक ऐसी दुनिया रची, जिसमें हर एक खुद को बनाए रखने में सक्षम है।